8/24/2018

How to take care your health and tips - swasth ki dekhabhaal ke liye ye upaay kare

आयुर्वेद और आपकी दिनचर्या ..

How-to-take-care-your-health-and-Health-tips-swasth-ki-dekhabhaal-ke-liye-ye-upaay-kare-desi-health-tips-ayurveda-healthcare-lifestyle
नमस्कार दोस्तों...जानते है आयुर्वेद और उससे जुडी आपकी दिनचर्या इसके बारे में रोचक तथ्य ...
आयुर्वेद के नियमो का  नियमित  से  पालन करे प्रतिदिन लगभग 6 से 7 घंटे कि नींद लेना जरुरी और  उचीत मानागया है. नींद नहीं आ रही है तोह योगनिद्रा के आसन करे वैसे तोह कम निंद से भी काम चल सकता है, लेकिन युवाओ को पर्याप्त नींद की आवश्यकता होती है.

How-to-take-care,your,health-and-Health,tips,swasth-ki-dekhabhaal-ke-liye-ye-upaay-kare,desi-health-tips-ayurveda-healthcare-lifestyle
                                      How-to-take-care

1) निंद के मामले मे सभी के लिए एक सा नियम नही लगाया जा सकता निंद से अपने आपको तरोताजा महसुस करे उतनी नींद पर्याप्त होती है.
लेकिन दोस्तों हमेशा याद रखे जितनी अच्छी हमारी नीन्द , उतनाही अच्छा हमारा लैगिक-स्वास्थ, होता है.

2) आप सभी को तोह पता हि होगा ये जो जिंदगी है बहुत भागदौड भरी जिंदगी है,लेकिन हम फिर भी जितना हो सके नियमो का नियमित से पालन करने की कोशिश करे जैसे रात मै 10 बजे सो जाना - सबेरे 4 से 5 बजे निंदसे जग जाना ये पालन नियमित करते हो तो स्वास्थ के लिए बहुत अच्छा है.

3) बहुत से लोग है जीने शारीरिक श्रम बहूतही कम लगभग नही के बराबर करने पड़ते  है उन्हे हर सुबहा जल्दी उठकर  योगासन व्यायाम जरूर करना चाहियें जैसे - सुर्य नमस्कार, सर्वागासन, सुप्त वज्रासन, मत्स्यासन, पश्चिमोत्तान, भुजंगासन, धनुरासन, शलभासन, मयुरासन, कपालभाती, शवासन, भस्त्रिका, ये आसन प्राणायाम नित्य नियमित करने से शरीर मे दिन  भर के लिए चुस्ती फुरती बनी रहती है. मै बहुत जल्दी योगासन के पुरे व्हिडिओ अपलोड करने वाला हु।  आसन विशेषज्ञ से ही सीखने चाहीये। 

4) सुबह हल्का नाश्ता करना शरीर के लिये फायदे मंद होता है नाश्ता हलका होना चाहीये जैसे अंकुरित अनाज, मौसमी फल दुध लेना उचित होता है।  कभी कबार नाश्ता न लिया जाए तो भी बेहतर है नाश्ता लेने के बाद भोजन 4 घंटे बाद करना चाहियें और रात का भोजन 8 बजे तक करना आपके लिये उचित है,
और एक महत्व पुर्ण बात बार-बार खानेकी आदत छोड दो.
मतलब 15 मिनटं बाद 30 मिनट  बाद 1 घंटे बाद ये बिलकुल उचित नही माना जाता हे आयुर्वेद में नियमो  के अनुसार कमसे कम 4 घंटे का गैप रखना  है.
इसके बिच आप फल या हल्का पे ले सकते है.भोजन के बाद प्रतीदिन एक चम्मच आँवला चुर्ण, लेने से पाचन शक्ती, और रोग प्रतिकार शक्ति, बढती है.

5) तांबे के बर्तन मे सव्वा लिटर पाणी रात भर रख लो सबेरे बिना दाँत साफ किए पाणी पिकर शौच जाना चाहिये. 
चाय-काँफी अच्छे स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है उससे औषधीय गुण कम हो जाते है नष्ट हो जाते है,
चाय पिनी ही है तो दोस्तों ग्रीन टि पिये क्योकी स्वास्थ्य के लिये फायदे मंद साबित होती  है.

6) मानसिक तनाव और शारीरिक तनाव, ये दोनो तनाव स्वास्थ्य के सबसे बडे दुश्मन है दोस्तों ये दोनो तनाव आपके साथ है तो आप युवावस्था, मे ही बुढापे जैसे दिखने लगते है.
सचमुच चिंता चिता से काम नहीं  होती, मित्रो तनाव को आपके आस पास भी मत भटकने देना तमाम समस्याओ का आप समाधान नही ढुढसकते तो आप चिंतन करके उसका समाधान ढुढसकते हो.
पहले तो आप शांत होकर रोज सबेरे प्रतिदिन प्रणायाम, ध्यान, योगासन, नियमित आसन करे ये आसनो से आपको बहुत फायदा होगा. दोस्तों शारीरिक तनाव बहुतेक प्रकार हो सकते है जैसे कोई बिमार हो तो पहले आप अपनी बिमारी का सही ढंगसे  इलाज करके आप पौष्टिक आहार, लेकर आप अपनी शारिरीक दुर्बलता,  तनाव दुर कर सकते है. 
आपको किसी जानकार या वैद्य, से सला मशवरा करना चाहिए।

How-to-take-care-your-health-and-Health-tips-swasth-ki-dekhabhaal-ke-liye-ye-upaay-kare-desi-health-tips-ayurveda-healthcare-lifestyle

आगे  हम आपको विभिन्न रोगो के बारे में जानकारी और उसके आयुर्वेद में सफल हुए इलाज, साथमे अच्छी अच्छी हेल्थ से जुडी बाते  और टिप्स ले कर आएंगे ..

धन्यवाद  दोस्तों ... 

No comments:

Post a Comment

धन्यवाद दोस्तो आपके सुझाव के लिये....धन्यवाद