9/01/2018

Fasting how and benefits-upavaas kaise kare isake phaayade

 उपवास कैसे करे इसके फायदे जानते है 

Fasting-how-and-benefits-upavaas-kaise-kare-isake-phaayade-desi-health-tips-ayurveda-healthcare-tridhosh
नमस्कार दोस्तों
अपने देश मे बुजुर्गो की एक बुद्धिमत्ता सोच रही है। जो वास्तव मे स्वास्थ्य-आयुर्वेद और आयुर्वेद-चिकित्सा का मिलाप है. अपने समाज मे तमाम परंपराये जो स्वास्थ्य-विज्ञान के तहत शुरु हुई थी, पर आज हमने वह परंपरा विकृत कर दि है. असल मे भारतीय-जीवनशैली मे इस प्रकार की आहार-विहार से जुडी पुरानी परंपराओ का मुख्य निर्देशांक रहा है। व्रत उपवास और विभिन्न तरह के शुभ अवसरो पर किये जानेवाले व्यवस्थाये निर्धारित की गई, जैसे शुभ अवसरो पर हल्दी, बेसन, चंदन, उबटन लगाने की परंपरा है.


Fasting-how-and-benefits,upavaas-kaise-kare,isake-phaayade,desi-health-tips-ayurveda-healthcare-tridhosh
                Fasting-how-and-benefits

आयुर्वेद में निर्जल उपवास, पुर्ण उपवास मानव शरीर के लीये  नुकसानदेह माना गया है। (निर्जला या पुर्ण उपवास से वात वृद्धि होती है)। उपवास करो लेकीन उसके साथ फल, दुध, फलोका जुस, शुद्ध और हलका पेय  का सेवन करना चाहीयेसामान्य दिनचर्या से अलग जनसामान्य के स्वास्थ्य कि रक्षा हो सके। आज हर तरफ अपने देश मे आयुर्वेद-चिकित्सा सेवाओ कि कमी है। यह महत्वपुर्ण बात है की जिन पंचमहाभूतो से हमारा शरीर निर्माण है, हमारे बुजूर्गो ने पुरखो ने उन्हे अलग अलग देवताओ के रुप मे पुजनिय बना दिया है। इसके अलावा अपने परंपराओ मे व्रत उपवास विधान से शारीरिक और मानसिक दोनो ही तरह कि स्वास्थ्य रक्षा का इंतजाम करके रखा है।

महत्वपुर्ण बात ये है। कभी भी निर्जला या पुर्ण उपवास न करेयह भी गौर करनीवाली बात है। हनुमानजी वायु से उत्पन्न देव है, उनका उपवास मंगलवार के दिन किया जाता है, हनुमानजी वायु से उत्पन है, तो उनका संबंध वायु से आता है। इस व्रत मे आप फल और दुध ले सकते है, और नमक का परहेज किया जाता है, पुरे दिन मे आप एक बार भोजन अन्नाहार कर सकते है। इससे आपको होने वाले आतंरीक शुद्धी और शरीर मे वात-संतुलन की दृष्टी से ही है.

शुक्रवार के दिन संतोषी माता का व्रत-उपवास किया जाता है, इस उपवास मे खट्टा परहेज होता है। इस उपवास मे नमक चलता है। दरअसल खट्टा पित्त-प्रकोप का कारण है। यह भी महत्वपुर्ण है की पित्त का संबंध बुद्धी से होने के नाते, पित्त असंतुलित हो तो बुद्धी भी विचलीत होगी। इस तरहा संतुलित पित्त के परिणाम संतोष-भाव पित्त-संतुलन की दृष्टी से ही है. नवरात्र-अन्य व्रत उपवास भी शरीर-शोधन की दृष्टी से महत्वपूर्ण है.

Fasting-how-and-benefits,upavaas-kaise-kare-isake-phaayade,desi-health-tips,ayurveda,healthcare,tridhosh,

धन्यवाद दोस्तों 

No comments:

Post a Comment

धन्यवाद दोस्तो आपके सुझाव के लिये....धन्यवाद